पाकिस्तानी वनडे कप्तान का टीम कोहली पर हिलेरियस कमेंट

हाल ही में बीसीसीआई ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के साथ दुबई में इन दो देशों के बीच एक सीरीज़ प्लान की थी. मगर इसके लिए इंडियन गवर्नमेंट की रज़ामंदी ज़रूरी थी. भारतीय सरकार ने मना कर दिया. दोनों बोर्ड ने जो साझा ख्वाब देखा था वो टूट गया. इस पर अब प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई हैं.

सबसे पहली और सबसे अजीब-ओ-गरीब बात कही पाकिस्तान के वन-डे कैप्टन सरफ़राज़ अहमद ने. सरफ़राज़ का कहना है कि पाकिस्तान के साथ इंडिया इसलिए नहीं खेल रही है क्यूंकि इंडियन टीम को डर लगता है. सरफ़राज़ के हिसाब से पाकिस्तान की टीम इंडिया को हरा देगी और इसी हार के डर की वजह से इंडियन टीम ने पाकिस्तान के साथ खेलने से मना कर दिया है.


इस बात के साथ ही ये बता दिया जाए कि वन-डे मैचों में टीम इंडिया की रैंकिंग 4 है और पाकिस्तान की 8 है. पाकिस्तान के बाद वेस्ट इंडीज़, अफ़ग़ानिस्तान, ज़िम्बाब्वे और आयरलैंड ही बचती हैं. इंडिया ने पिछले 1 साल में (1 जनवरी 2016 से) मात्र 16 वन-डे मैच खेले हैं और इसके बावजूद वो 4 नंबर पर मौजूद है. इंडिया ने 16 मैचों में 9 मैच जीते हैं और 7 हारे हैं. पाकिस्तान ने भी 16 ही मैच खेले हैं लेकिन इनमें से वो 10 मैचों में हारी है. इन मैचों में इंडिया का एवरेज 48 का है जबकि पाकिस्तान का 34 का. इंडिया का इन मैचों में जहां सबसे कम स्कोर रहा है 236 वहीं पाकिस्तान का है 176.

वहीं टेस्ट में 1 जनवरी 2016 से इंडिया ने 17 टेस्ट खेले हैं और उसमें सिर्फ 1 मैच हारी है और 12 जीती है. दूसरी तरफ पाकिस्तान 12 टेस्ट मैचों में मात्र 4 जीती है और 8 मैचों में हारी है. यानी पाकिस्तान अपनी 2 हार पर 1 मैच जीत रही है और इंडिया 1 हार पर 12 मैच जीत रही है. 


इन सभी स्टैट्स के बाद अगर कोई ये कहता है कि पाकिस्तान से खेलने में इंडिया को हार का डर सता रहा है तो यकीनन उसे एक सलाहकार या मैथ्स के ट्यूशन या दोनों की ज़रुरत है.

इस पूरे मैटर में मिस्बाह उल हक़ और शाहिद अफ़रीदी ने कुछ ठीक टिप्पणी की है. टिप्पणी कम, सरफ़राज़ की लेथन समेटने की कोशिश ज़्यादा मालूम दे रही है. मिसबाह ने कहा, “सरफ़राज़ की अपनी सोच है लेकिन मुझे नहीं लगता कि इंडियन टीम डरी हुई है. मेरे लिए सब कुछ सिंपल है. हर किसी को मालूम है कि इंडिया क्यूं नहीं पाकिस्तान के खिलाफ़ खेल पा रही है. ये सब कुछ पॉलिटिकल है. इसमें क्रिकेट से जुड़ा कुछ है ही नहीं.” मिस्बाह ने ये बात आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी के प्रदर्शन के समय मीडिया से कही. आगे उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि इंडियन प्लेयर्स खुद हमारे साथ खेलना चाहेंगे लेकिन ये पॉलिटिक्स है जो हमें नहीं खेलने दे रही है. इस सीरीज़ को भारतीय सरकार ने रोक रखा है.”

 

मिस्बाह ने ये भी बताया कि 4 जून को चैम्पियंस ट्रॉफी में होने वाला इंडिया वर्सेज़ पाकिस्तान मैच पूरी तरह से सोल्ड-आउट हो चुका है. “ये क्रिकेट को एक बड़ा नुकसान है क्यूंकि हम एक दूसरे के ख़िलाफ़ खेल ही नहीं पा रहे हैं. इससे हमें कुछ भी नहीं मिल पायेगा. उलटे नुकसान ही होगा.”

इन सब के बीच पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने नया शगूफ़ा छोड़ा है. उन्होंने कहा, “ये लोग (इंडियन क्रिकेट बोर्ड) हमारे साथ खेल रहे हैं. ये हमारे साथ सीरीज़ खेलने में कतई इंट्रेस्टेड नहीं हैं. ये एक के बाद एक नया बहाना बनाते रहते हैं. इस बार ये ऐसा इसलिए कर रहे हैं जिससे अगली आईसीसी मीटिंग में हम इंडिया के साथ क्रिकेट सीरीज़ न खेले जाने का मसला न उठा सकें.”

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन शहरयार खान ने कहा, “मुझे बीसीसीआई से कोई भी ऑफिशियल स्टेटमेंट नहीं मिला है. सब कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के ही दम पर चल रहा है. मगर अगर ये सीरीज़ होती है तो हमें भी अपनी सरकार से क्लियरेंस लेनी होगी.”

इंडिया और पाकिस्तान इंडियन सबकॉन्टिनेंट की दो सबसे बड़ी और ताकतवर टीमें हैं. इन दोनों के बीच बनी इस खाई से सबसे ज़्यादा नुकसान क्रिकेट के खेल का ही हुआ है. पिछले सालों में कई बार इंडिया और पाकिस्तान के बीच सीरीज़ का सवाल खड़ा हुआ और उसे वहीं चुप करा दिया गया. मसला राजनीतिक है. क्रिकेट न खेले जाने से कैसे राजनीतिक मसले हल किये जा सकेंगे, ये वो सवाल है जिसका किसी के पास जवाब नहीं.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s